सोमवार, 24 जनवरी 2011

बेनामियों ......... गन्दी टिप्पणियाँ करना छोड़ो

आदरणीय बेनामी भाईयों,
आप सभी से गुजारिश है कि कृपया मेरे ब्लॉग पर आकर गन्दी गन्दी, अश्लील और गालियों वाली टिप्पणियाँ न किया करें । बहुत दुख होता आप लोगों के गिरे हुए चरित्र को देखकर। ऐसा मत कीजिए प्लीज़। ये अच्छी बात नहीं है।

15 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

बिलकुल नहीं करेंगे जी. हम आपसे यही तो सुनने का इंतज़ार कर रहे थे. अब आप का आग्रह ठुकरा थोड़ी सकते हैं.
जय हिंद

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

ये अच्छा किया किल्लर भाई

विजय तिवारी " किसलय " ने कहा…

आपकी
बात
से
सहमत
होना
ही
था.
- विजय तिवारी ' किसलय '

प्यारी माँ ने कहा…

हमारी दुआ आपके साथ है ।

किलर झपाटा ने कहा…

बहुत बहुत धन्यवाद बेनामी भाइयों,
आपने मेरी बात मानी और पिछले २४ घण्टे में एक भी गन्दी टिप्पणी नहीं की। आगे भी ऐसा ही माहौल बनाए रखें। अपने ब्लॉगजगत की बदनामी होती है भाई। है ना ? किसलय जी को धन्यवाद ब्लॉग पर आने के लिए।

बेनामी ने कहा…

भोसड़ी के मादरचोद यहाँ ज्ञान पेल रहा है तू
साले बहनचोद तू आखिर यहाँ है ही क्यूँ
जाकर अपनी अम्मा चुदवा न

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

सही कहा आपने।

---------
क्‍या आपको मालूम है कि हिन्‍दी के सर्वाधिक चर्चित ब्‍लॉग कौन से हैं?

बेनामी ने कहा…

@बेनामी
sale mahfooj sahas he to samne akr bat kar. sale sab teri okat jante hen. purushon se bat krne ki okat nhi he teri. to mhilaon ke bichh hi he he he karta achchha lagta he

बेनामी ने कहा…

@बेनामी
sale mahfooj sahas he to samne akr bat kar. sale sab teri okat jante hen. purushon se bat krne ki okat nhi he teri. to mhilaon ke bichh hi he he he karta achchha lagta he

बेनामी ने कहा…

अबे मेरे ऊपर वाले बेनामी, महफ़ूज को इसमे क्यों लपेट रहा है बे। तेरे से किलर झपाटे को खोजते नहीं बन रहा है तो खिसिया क्यों रहा है। खिसियाने की जगह उसकी अच्छी अच्छी बातों का चिंतन कर तो तू तर जाएगा। समझे।

बेनामी ने कहा…

@बेनामी
sale mahfooj sahas he to samne akr bat kar. sale sab teri okat jante hen. purushon se bat krne ki okat nhi he teri. to mhilaon ke bichh hi he he he karta achchha lagta he

बेनामी ने कहा…

असली रंडी तो मैं ही हूँ. देसी-विदेसी रंडी तो ठहरी. हाँ नही तो
मुझे कच्चे-कच्चे निम्बोडा लायी दो. हाँ नही तो

Ek Anurodh ने कहा…

किलर झपाटा जी
हम नहीं जानते कि यह ब्लॉग बनाने का आपका मक़सद किया है? मगर इतना ज़रूर है कि आपके ब्लॉग पर प्रकाशित टिप्पणियों की वजह से बहुत लोगों के रिश्ते ख़राब हो रहे हैं. यक़ीनन आप भी इंसान हैं और आपके सीने में भी दिल होगा. और उस दिल में किसी न किसी के लिए मुहब्बत भी होगी. आपको उसी मुहब्बत का वास्ता. अपने ब्लॉग से अश्लील टिप्पणियां हटा लीजिए. हम तो बस आपसे करबद्ध अनुरोध ही कर सकते हैं. उम्मीद है कि आप मायूस नहीं करेंगे.

किलर झपाटा ने कहा…

प्रिय एक अनुरोध भाई साहब, आप ठीक कह रहे हैं के मुझे ये दुखदाई टिप्पणियाँ हटा देना चाहिए। अगले माह एक दिन नियत करके और सभी ब्लॉगर्स से क्षमा माँगते हुए मैने इन टिप्पणियों को हटा लेने का प्रोग्राम बना लिया है। तब तक के लिए मेरा साथ दें। यकीन मानिए ये सब देख कर मेरा दिल भी दुखता है। पर समय आने दीजिये। आपकी बात खाली नहीं जायेगी।

बेनामी ने कहा…

बदबूदार और ओछी फ़ितरत वाले लोग बदबू फ़ैलाने के अलावा कर ही क्या सकते हैं? तुम सारे लखनवी ब्लागरों मे से कुछ ने सरेआम इस ब्लाग जगत की ऐसी तैसी कर डाली है। आपस मे ही बेनामी बेनामी खेलते हो। गजब करते हो यार। और झपाटे तू पोस्ट लिखता है कि गाली मत दिया करो तो इनको पब्लिश क्यूं करता है बे? खुद ही बेनामी के नाम से गाली गलौच करता है और लोगों को नसीहत देता फ़िरता है। तू क्या समझता है तू बच जायेगा?