शनिवार, 22 जनवरी 2011

बड़ा जिगरा चाहिए "टिप्पणियों को जस का तस सहने में"

ब्लॉगजगत की मशहूर हस्ती श्री समीरलाल ‘समीर’ को रीकोट करते हुए साहित्य जगत की मशहूर हस्ती श्री ज्ञानरंजन जी ने कहा कि - ‘बड़ा जिगरा चाहिए जड़ से जुड़े रहने में’. बिल्कुल सही बात है यह और समीर जी, जिनकी नॉवेल का अतिसुन्दर विमोचन उनके शहर जबलपुर में हुआ, ने जरूर ही अपने जोरदार अंदाज में  लिखी होगी। काश हमें भी पढ़ने मिलती। मगर ये सम्भव नहीं है। क्योंकि हमसे तो पूरा ब्लॉगजगत ही नाराज है। सब कहते हैं अपने ब्लॉग से गंदी, भद्धी, अश्लील बेनामी टिप्पणियाँ तुरंत हटाओ। मृणाल पाण्डेय जैसी हस्ती को भी मैदाने जंग में आना पड़ गया। वैरी सैड।
लेकिन, आप सब की कसम मैने ये गिरी हरकतें नहीं की हैं। मैने सबकी तारीफ़ में ही पोस्टें लिखी हैं। पढ़ लीजिए सब की सब उठा कर। 
जनाब,  ब्लॉगर का यह फ़र्ज भले ना हो मगर शालीनता के तकाजे पर मॉडरेशन लगाना तो बहुत आसान है.........................

लेकिन लेकिन लेकिन

बड़ा जिगरा चाहिए  "टिप्पणियों को जस का तस सहने में"

33 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

Sahi kaha Jhapata ji. Aapka jigra to bada hai hee.

अच्छा वाला बेनामी ने कहा…

अरे झपाटा भैया आप संजीदा भी होते हो ये जानकर बड़ा अच्छा लगा। पर वो गंदी टिप्पियाँ ? यार सही में मन कसैला हो जाता है। हटा लो यार।

सच्चा वाला बेनामी ने कहा…

अरे झपाटा भैया आप संजीदा भी होते हो ये जानकर बड़ा अच्छा लगा। पर वो गंदी टिप्पियाँ ? यार सही में मन कसैला हो जाता है। हटा लो यार।

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

झपाटा जी,
एकदम सही बात कही है आपने हमारा तो केवल ब्लॉग है, टिप्पणिया तो और लोग ही करते है और Modration लगाने से आपकी कही बात दुसरो की समझ की मोहताज ही जाती है ...

ब्लॉग मालिक सही समझते है तो छाप देते है और ब्लॉग के खिलाफ कुछ कह दो तो टिप्पणिया ही नहीं छापते .....

वाकई बड़ा जिगरा चाहिए "टिप्पणियों को जस का तस सहने में"

बेनामी ने कहा…

भोसदिया वाले मादरचोद कहते हो - 'बड़ा जिगरा चाहिए टिप्पणियों को जस का तस सहने में'
तेरी माँ को रावण चोदे साले अपने असली नाम से गाली खाओ तो मानें की जिगरा है.
नकली नाम से क्या फर्क पड़ता है. संभव है की असली नाम के साथ तुम साधू बने घूम रहे होगे,,,जिगरा है तो असली नाम और परिचय के साथ आओ हिंजड़े की औलाद,
देख तेरी बहिन का भडुआ बंटी चोर भी आ गया अब तू उसकी अम्मा की भडुआगिरी कर जाकर

प्यारी माँ ने कहा…

एक माँ से बड़ा जिगर किसी का नहीं होता क्लियर झपट्टा जी ।

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

बेनामी बेनामी ने कहा…

भोसदिया वाले मादरचोद कहते हो - 'बड़ा जिगरा चाहिए टिप्पणियों को जस का तस सहने में'
तेरी माँ को रावण चोदे साले अपने असली नाम से गाली खाओ तो मानें की जिगरा है.
नकली नाम से क्या फर्क पड़ता है. संभव है की असली नाम के साथ तुम साधू बने घूम रहे होगे,,,जिगरा है तो असली नाम और परिचय के साथ आओ हिंजड़े की औलाद,
देख तेरी बहिन का भडुआ बंटी चोर भी आ गया अब तू उसकी अम्मा की भडुआगिरी कर जाकर

२२ जनवरी २०११ १२:०२ अपराह्न
===================================

बेनामी भाई,
आप हमसे कहते है की असली नाम से गली खाओ ..... पहले अपने आप को देखो, तुम मे तो इतनी हिम्मत भी नहीं है की अपने नाम से कमेंट ही कर सको

बेनामी ने कहा…

हाँ मादरचोद
मैं बेनामी बनकर इसलिए आया ताकि अपना घर साफ़ रख सकूँ, तेरी तरह हरामजादा नहीं हूँ की जहाँ रहूँ वहीँ लेड़ी करता फिरूं
जरा आज पता करना की बंटी चोर और तेरी अम्मा कितने कुत्तों के साथ सोयी थीं जो तुम जैसे खुजलीदार सूअर पैदा हुए

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

तो बेनामी बेटा जिस तरह से तुम चाहते हो कि तुम्हारा घर साफ रहे उसी तरह हैम भी चाहते है इसलिए इस तरह से लिखते है ... समझे सूअर
कि औलाद

@किल्लर झपाटा जी,

मेरे ब्लॉग पर आए और देखे ताऊ पहेली का जवाब

खड़ा लंड बेशरम चूत ने कहा…

तो अब किलर झपाटा समीरलाल की भडुआ गिरी करने लग गया है? अब भडुए तो कहीं भी मां चुदवायेगे. बडे या छोटे लौडे से कोनु फ़र्क नाही पडता.

खड़ा लंड बेशरम चूत ने कहा…

यहां सबके सब मा के लौडे हैं। कोई किसी की गाम्ड में लौडा डालता है कोई चूत को चाटता है। कोई भी इमानदारी से काम नही करते। सब एक दूसरे की बहन चोदते रहते हैं। चोदो...खूब चोदो जब तक लौडा थक नही जाये। झपाटे तू भी मा के साथ साथ बहन चुदवाले साले गांडू कहीं के मादरचोद और उससे भी प्यास नही बुझे तो गांड मरा ले समीर लाल से भौसडी के। तेरा पर्दा फ़ास हो चुका हैं लौडू कहीं के हिजडे की औलाद।

बेनामी ने कहा…

साले हरामी सूअर रंडी की औलाद भोसड़ी के झांट के लौंडे तेरे जैसा मादरचोद कोई नहीं है
तेरी अम्मा चौराहे पे खड़ी अठन्नी-अठन्नी में चूत चुदवा रही है जाकर रोक उसे वरना तेरे जैसा एक सूअर और आ जाएगा.
बंटी चोर और तुम दोनों साले महागांडू
अब तो तुम दोनों का एक ही इलाज है की दोनों की गांड में गधे का लंड डाला जाए बहनचोदों

Your Friend ने कहा…

जो बात मैंने तुम्हारे पिछले पोस्ट में कही थी यहाँ भी दोहरा रहा हूँ-

यार झपाटे अब तो दिव्या जी ने तुम्हे धन्यवाद भी कर दिया है कुछ तो शर्म करो यार और हटा दो सारी अश्लील टिप्पणियाँ अपने ब्लॉग से।

बंटी चोर से ही कुछ सीख लो काम जो भी करे पर उसके ब्लॉग पर एक भी अपशब्द नहीं मिलेगा।

तुम पड़े लिखे और समझदार मालूम होते हो फिर क्यों ऐसी गंदगी मचाए हो? अगर इतना ही शौक है तो एक पोर्न ब्लॉग बना लो और उसमे उत्तेजक कहानियाँ और तस्वीरें डालते रहो पर हिंदी ब्लॉग के नाम पर ये सब तो मत करो।

तुम्हारी वजह से सारे हिंदी ब्लॉग जगत पर गालियोँ का आरोप लग रहा है।

वैसे भी तुम अपने असली नाम से ब्लॉगिँग करते ही होगे फिर क्या मजा मिल रहा है तुम्हे ये सब करके। या तो ये ब्लॉग बंद कर दो या इसे साफ सुथरा रखो।

बाकी तुम्हारी मर्जी। दबाव तो कोई किसी पर डाल ही नहीं सकता यहाँ।

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

@Your Friend

मित्र आपकी बात से हम भी पूरी तरह सहमत है,

@किलर झपाटा जी,
अगर हो सके तो असभ्य भाषा की टिप्पणियॉ को निकाल दे और ब्लॉग पर इस तरह की भाषा की टिप्पणियॉ को प्रकाशित न करे

बेनामी ने कहा…

एक मादरचोद दुसरे मादरचोद को समझाने आया है
तेरी बहिन को चोदुं भोसड़ी के
अपना हरामीपन कम नहीं करोगे तुम लोग रंडी की औलादों और गन्दी टिप्पणियॉ को निकाल दोगे ?
क्या होगा इससे ?

प्रवीण शाह ने कहा…

.
.
.
चलो और कुछ नहीं तो भद्दी से भद्दी गालियों के संरक्षण व भविष्य के गाली-रिसर्च-स्कॉलर्स के लिये संदर्भ स्रोत का काम तो करेगा ही यह ब्लॉग... लगे रहो मेरे दोस्त... बेनामी बन यहाँ कोई भी किसी को गाली दे सकता है वह भी इस विश्वास के साथ कि वह गाली यहाँ बनी रहेगी हमेशा...

अनूठा कान्सेप्ट है यह... किलर झपाटा 'यू आर ए जीनियस'...

दोबारा आउंगा देखने कि यह सब कहने पर मुझे कितने गरियाते हैं... ;)


...

किलर झपाटा ने कहा…

मिस्टर गन्दे वाले बेनामी- आपकी इतनी सब मेहनत पर मैं तो बस यही कहूँगा "सेम टु यू" हा हा। और मेरे भाई बंटी और समीर जी को गाली देने का आपको कोई हक नहीं बनता। और आपकी कल्पना अजीब है यार। त्रेता का रावण यहाँ कलयुग में आकर वो सब कहाँ कर पाएगा जिसकी प्रार्थना आप कर रहे हैं। और मेरा असली नाम जिस दिन सुन लोगे उस पेशाब के लिए कैथेटर टाँगना पड़ जाएगा क्योंकि कितने बार दौड़ोगे टायलेट की तरफ़। हा हा। अच्छा आपका ये कंसेप्ट भी जोरदार है कि एक लेडी कुत्तों के साथ सोए और उसे खुजलीदार सूअर पैदा हो जाए। इंटेस्टिंग। आपके खानदान में इस तरह की पैदाइशें होती रहती हैं अक्सर क्या ? वैरी स्ट्रेंज।
और हाँ बेनामी भाई, आप जितना अधिक खिसियाते हो मुझे पोस्ट लिखने को उतनी ही अधिक प्रेरणा मिलती है। आपका बहुत बहुत धन्यवाद। मगर अच्छी अच्छी बातें भजन वगैरह किया करो किया करो यार। क्या फ़ालतू गाली गलौज करते रहते हो हैं ?

किलर झपाटा ने कहा…

प्यारे बंटी भाई,
आज आपने मेरा बहुत साथ दिया है। मैं भी हमेशा आपके साथ हूँ। क्योंकि हम दोनों को ही ब्लॉगजगत से इन बैठे ठाले के मुफ़तिया लोगों को ............. हा हा।

किलर झपाटा ने कहा…

प्रवीण जी आपने जो कहा सर माथे पर। आप ऐसा मत सोचिए सर एक ना एक दिन यह गाली गलौज बिना मॉडरेशन के बंद होगी। इसी उम्मीद के साथ आपका बहुत बहुत आभार।

किलर झपाटा ने कहा…

योर फ़्रैंड जी, इन गालियों को पढ़ मुझे कैसा लगता होगा यह आप ही समझ सकते हैं क्योंकि मेरे दोस्त हैं मगर मेरे साथ आप बस कुछ दिन और बियर कर लें प्लीज़ क्योंकि मेरा उद्देश्य सर्वजन हिताय है। जस्ट कुछ दिन। ओ.के.

प्यारी माँ ने कहा…

मेरे फौजी लाडले को गाली तो कोई दे नहीं सकता बस एक samhita saxena थी सो वह भी उसके पंच के डर से रूपोश हो गई है ।
वैसे यहां आने के लिए भी जिगरा चाहिए जो या तो प्रवीण में है या फिर उसकी प्यारी माँ में है ।

बेनामी ने कहा…

अबे बहन के लौडे झपाटे, मादरचोद तेरे को अच्छी तरह जानता हूं कि तू कौन है और कहां से मा चुदवा रहा है गांडू? अब तू ज्यादा दिन तक नही बच सकेगा, याद रख मादरचोद कि तेरे पहले भी कई भडवे बेनामी बनकर भडुआ गिरी कर चुके हैं और चलते बने हैं.

एक मादरचोद टिप्पू चाचा बनकर मा चुदवाया करता था जिसकी पोल खुल गई तो बंद होगया। एक अम्माजी, मूर्ख ज्ञानी, कूप कृष्ण, उस्ताद जी, मुन्नी बदनाम भी मां चुदवाकर थक चुके हैं कभी कभी कहीं मां चुदवाया करते हैं. अब तू तेरी बहन की चूत को क्यों भौसडा बनवा रहा है गांडू? रहम कर बहनचोद उस बेचारी पर।

समाज को तुम जैसे लोग यही सब दे सकते हैं और क्या कर सकते हैं?

तू कहता है कि तेरा असली नाम जान्कर कैथेटर टांगना पदेगा तो मा के लौडे तेरा असली नाम तो मैं जानता हूं मुझे तो कैथेटर नही लगा। साले अगर तू जिगरा रखता है तो आज तेरा असली नाम कर दे उजागर फ़िर देख किसको कैथेटर लगता है गांडू? वैसे अब समझ ले कि तू एक्सपोज हो ही चुका है। चिंता मत कर अब तेरा नाम मैं उजागर करूंगा जैसे टिप्पू चाचा का किया था। तू मेरे जाल में फ़ंस चुका है मादर चोद।

बेनामी ने कहा…

अबे चूत के भडूए झपाटे, ये "प्यारी मां" के नाम से प्रोफ़ाईल बनाकर क्युं समाज मे मां की इमेज कर रहा है गांडू?

ये प्यारी मां की बजाये "खड़ा लंड चूत के अंदर" जैसे प्रोफ़ाईल बना ले और तेरी कुत्सित इच्छाओं को पूर्ण करलें भडूये. तुम जैसे लोग हीन भावना से ग्रसित होते हैं जिनको समाज में कोई स्थान नही मिलता वो यहां आकर बेनामी बनकर अपनी कुत्सित वासनाओं की पूर्ति करते हैं.

किलर झपाटा ने कहा…

परम आदरणीय बेनामी भाई साहब, आप तो ठीक उसी तरह फ़ड़फ़ड़ा रहे हैं जैसे शोले पिक्चर में गब्बर के बाँधने के बाद ठाकुर। हा हा। चिल्ला लो और चिल्ला लो .........। कह रहे हो तू मेरे जाल में फ़ंस चुका है। अरे इसमें फ़ंसने की क्या बात है भाई। मैने कोई बुरा काम किया है क्या ? आप ही सब लोग बेनामी बन बनकर मुझे और ब्लॉगजगत को मेरे इस सुन्दर से ब्लॉग पर गन्दी गन्दी गालियाँ बक रहे हो और मैं मिटा नहीं रहा हूँ तो खिसिया रहे हो। पगला गए हो क्या ? हा हा।
कितना गन्दा मालुम दे रहा है कि माँ और बहन जैसे पवित्र रिश्ते को नई नई भद्दी भद्दी उपमाएँ दे रहे हो। छि: छि: बहुत शरम की बात है ये। आप इसी तरह के काम करते हो क्या अपने परिवार में जैसे कि मुझे बता रहे हो। हा हा। और तो और गुस्से में सनक कर गन्ना ही चूसने लगे और फ़ोटो में तो कुछ और चीज थी ?
ये सब छोड़ के भाई साहब भजन पूजन ध्यान वगैरह कीजिए आप। टेंशन से निजात मिल जाएगी। थैंक यू

बेनामी ने कहा…

बंटी चोर और तुम दोनों अपनी अम्मा चुदाना जारी रखो
तुम्हारा बाप तुम्हारा पूरा मोहल्ला है
एक खुश खबरी और है
बहुत जल्दी तुम मामा और बाप एक साथ बनने वाले हो

किलर झपाटा ने कहा…

हा हा बन गया जी मैं मामा और बाप एक साथ। और मेरे भाँजे-कम-बेटे का नाम है बेनामी........................
कहो कैसी रही ?

बेनामी ने कहा…

भोसड़ी के अपने बाप की गांड मारो
अपनी मईया चुदाओ
बहिन तो चुदा चुदा के फड़वा ही रही होगी
मादरचोद
तेरी अम्मा की एक दिन सड़ी हुयी चूत मारूंगा जरूर
भले ही बाद में पूरे डिटोल से नहाना पड़े

किलर झपाटा ने कहा…

आप तो लगातार डेटाल में नहाना, उसी में तैरना, उसी को पीना वगैरह शुरू कर दीजिए बेनामी भाई साहब। क्योंकि आपका तो दिलोदिमाग और फ़ितरत और चरित्र का पुर्जा पुर्जा ही सड़ चुका है। तभी तो ऐसी सड़ी हुई भाषा का इस्तेमाल करके सड़ी हुई बातें करते हैं। छि: गन्दे। हा हा।

बेनामी ने कहा…

@बेनामी
sale mahfooj sahas he to samne akr bat kar. sale sab teri okat jante hen. purushon se bat krne ki okat nhi he teri. to mhilaon ke bichh hi he he he karta achchha lagta he

बेनामी ने कहा…

@बेनामी ने कहा…

भोसड़ी के अपने बाप की गांड मारो
अपनी मईया चुदाओ
बहिन तो चुदा चुदा के फड़वा ही रही होगी
मादरचोद
तेरी अम्मा की एक दिन सड़ी हुयी चूत मारूंगा जरूर
भले ही बाद में पूरे डिटोल से नहाना पड़े


mahfooj aa gya na apni okat par

बेनामी ने कहा…

DESI-VIDESI RANDI kathi kutiya tu kab sudhregi
tere rhte zeal bina karan badnam he

बेनामी ने कहा…

DESI-VIDESI RANDI kathi kutiya tu kab sudhregi
tere rhte zeal bina karan badnam he

बेनामी ने कहा…

असली रंडी तो मैं ही हूँ. देसी-विदेसी रंडी तो ठहरी. हाँ नही तो
मुझे कच्चे-कच्चे निम्बोडा लायी दो. हाँ नही तो